श्रमशक्ति वेब पोर्टल (23 January 2021)

श्रमशक्ति वेब पोर्टल (23 January 2021)
श्रमशक्ति वेब पोर्टल (23 January 2021)

भारत सरकार ने आदिवासी प्रवासी श्रमिकों से संबंधित डेटा एकत्र करने के लिए एक वेब पोर्टल लॉन्च किया है। इस वेब पोर्टल का नाम श्रमशक्ति डिजिटल पोर्टल है। जनजातीय मामलों के मंत्रालय ने 22 जनवरी 2021 को श्रमशक्ति पोर्टल लॉन्च किया। यह आदिवासी प्रवासी श्रमिकों से संबंधित डेटा एकत्र करने के लिए किया गया है।

इस आभासी कार्यक्रम में आदिवासी मामलों के मंत्री, अर्जुन मुंडा अग्रणी थे। उन्होंने श्रमशक्ति नाम का डिजिटल पोर्टल लॉन्च किया। जनजातीय मामलों के मंत्री के अनुसार, तालाबंदी की घोषणा के बाद देश भर के प्रवासियों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। कोरोनावायरस महामारी के कारण आदिवासी प्रवासी श्रमिकों के लिए अभिशाप बन गया है। उन्होंने कहा कि आदिवासियों का पलायन हर रोज होने वाले संकट के कारण होता है। यह पोर्टल जनजातीय प्रवासी श्रमिकों को मौजूदा कल्याणकारी योजनाओं से जोड़ेगा।

श्रम शक्ति वेब पोर्टल की आवश्यकता-

आदिवासी प्रवासी श्रमिक आम तौर पर आय सृजन और रोजगार की तलाश में आगे बढ़ते हैं। इन प्रवासियों को असुरक्षित और कठिन परिस्थितियों से भी अवगत कराया जाता है।

आदिवासी प्रवासी श्रमिक अक्सर अपने अधिकारों और अधिकारों के बारे में कम जानते हैं। उन्हें विभिन्न सेवाओं तक पहुंचने के तरीकों के बारे में भी पूरी तरह से सूचित नहीं किया गया है। सामाजिक सुरक्षा सेवाओं से संबंधित जानकारी भी इन आदिवासियों के लिए स्पष्ट नहीं है। वास्तव में, कई आदिवासी प्रवासी श्रमिक गंतव्य क्षेत्रों और उन स्थानों के बारे में ठीक से नहीं जानते हैं, जिनमें वे काम करते हैं।

कोरोनावायरस महामारी ने विशेष रूप से आदिवासियों के लिए प्रवासी श्रमिकों की समस्याओं को तेज कर दिया है। अनिश्चित लॉकडाउन अवधि ने इन श्रमिकों को अत्यधिक वित्तीय और आजीविका संकट में डाल दिया है। यहां तक ​​कि वे कल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्राप्त करने में असमर्थ थे।

भारत सरकार ने हमेशा विशेष रूप से आदिवासी श्रमिकों के लिए वास्तविक समय के आंकड़ों की कमी को दावत दी है। आदिवासी प्रवासी श्रमिकों को किसी भी आधिकारिक डिजिटल प्लेटफॉर्म में पंजीकृत नहीं किया गया है। विवरणों के स्वामी को डिजिटल पोर्टल में पंजीकृत नहीं किया गया है। आदिवासी प्रवासी श्रमिकों के इस अर्थ के कारण कल्याणकारी योजनाओं के लाभ से अलग रहना पड़ता है, जिसके कारण वे कई बार जनजातीय प्रवासी श्रमिकों की समस्याओं को भी अनसुना कर देते हैं। पारदर्शिता की कमी ने उनकी समस्याओं को तेज कर दिया है। भारत सरकार को आदिवासी प्रवासी श्रमिकों से संबंधित मुद्दों के लेखांकन, निगरानी और विनियमन में समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था। इसलिए सरकार श्रम शक्ति वेब या डिजिटल पोर्टल नाम से एक डिजिटल प्लेटफॉर्म स्थापित करने की पहल के साथ आई है।

श्रम शक्ति वेब पोर्टल का उद्देश्य-

श्रम शक्ति वेब पोर्टल की निम्नलिखित उद्देश्य है-




  • यह आदिवासी प्रवासी श्रमिकों के लिए डेटा अंतर को सफलतापूर्वक संबोधित करने में सक्षम होगा।

  • आगे यह प्रवासी श्रमिकों को सशक्त करेगा।

  • यह पोर्टल आदिवासी प्रवासी श्रमिकों को शिक्षित करेगा।

  • यह पोर्टल उन अधिकारों और सेवाओं के बारे में जानकारी देगा जो आदिवासियों के पास हैं।

  • उन स्थानों के संबंध में विभिन्न अन्य जानकारी भी उपलब्ध कराई जाएगी, जिनमें उन्हें काम करना है और गंतव्य क्षेत्रों से संबंधित हैं कि किस दिन किस उद्देश्य के लिए प्रवास करते हैं।

  • यह पोर्टल आदिवासी प्रवासी श्रमिकों के कल्याण के लिए लाभदायक होगा।

  • इस पोर्टल के माध्यम से जनजातीय प्रवासी कामगारों के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाएँ ई-विनियमित और निगरानी की जाएंगी।

  • इस पोर्टल के माध्यम से आदिवासी प्रवासी श्रमिकों के बीच समान वितरण का भी बीमा किया जाएगा।

  • इस पोर्टल के माध्यम से जनजातीय प्रवासी श्रमिकों की समस्याओं के वास्तविक समय के आंकड़ों और शमन की निगरानी को नियंत्रित किया जा सकता है।

  • इस पोर्टल के माध्यम से जनजातीय प्रवासी श्रमिकों के विवरण का लेखा, निगरानी और विनियमन संभव हो सकता है।

  • चित्तीदार प्रकृति में समग्र है और जनजातीय प्रवासी श्रमिकों के सामने आने वाली समस्याओं को कम करने में काम करेगा।



श्रमशक्ति पोर्टल-

श्रमशक्ति पोर्टल के माध्यम से एकत्र किए गए आंकड़ों में निम्नलिखित विशेषताएं शामिल होंगी-




  1. आदिवासी प्रवासी श्रमिकों की आजीविका विकल्प

  2. इन श्रमिकों के लाभ के लिए वेब पोर्टल के अंदर कुछ प्रशिक्षण मॉडल भी तैयार किए गए हैं

  3. इन श्रमिकों के लिए स्रोत और गंतव्य क्षेत्रों का पता लगाने के लिए जनजातीय प्रवासी श्रमिक प्रवासन पैटर्न की जनसांख्यिकीय प्रोफ़ाइल और पारिवारिक विवरण

  4. आदिवासी प्रवासी श्रमिकों के कौशल और दक्षता का मानचित्रण 



जनजातीय प्रशिक्षण मॉड्यूल: श्रमसाथी-

जनजातीय मामलों के मंत्री ने श्रमसाथी का भी शुभारंभ किया। यह एक आदिवासी प्रशिक्षण मॉड्यूल है। यह सुनिश्चित करेगा कि इन आदिवासियों की आजीविका प्रवासन की प्रक्रिया उत्पादक और सुरक्षित हो। प्रशिक्षण मॉड्यूल दिखाते हैं कि आदिवासी प्रवासी श्रमिकों को उनके अधिकारों और सेवाओं के बारे में शिक्षित किया जाएगा। आगे उन गंतव्य क्षेत्रों के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी जिनमें वे प्रवास करना चाहते हैं। यह उन्हें जागरूक और सशक्त बनाएगा।

प्रशिक्षण के बाद आदिवासी प्रवासी श्रमिक उन सेवाओं तक पहुंच और मांग कर सकेंगे, जिनके वे हकदार हैं। वे सामाजिक सुरक्षा से संबंधित अधिकारों और अधिकारों के बारे में अच्छी तरह से जानते होंगे। इसके अलावा, इस प्रशिक्षण मॉड्यूल से आदिवासियों को प्रवास से पहले अपने गाँव में आजीविका के बारे में पता चलेगा। उन्हें गंतव्य क्षेत्रों में उपलब्ध विभिन्न अवसरों के बारे में पता चलेगा जिसमें वे प्रवास करना चाहते हैं।

Published By
Anwesha Sarkar
23-01-2021

Related Current Affairs
Top Viewed Forts Stories